Donate Us

Followers

Wednesday, November 11, 2020

बिहार में फिर एक बार नितिश सरकार, काँटे की टक्कर में NDA ने महागठबंधन को हराया।

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में वोटों की गिनती देर रात तक जारी रही और काँटे की टक्कर में NDA ने महागठबंधन को 15 सीटों के अंतर से हरा दिया, इस तरह यह सुनिश़्चित हो गया कि बिहार में फिर एक बार राजग की सरकार बनने जा रही है या कह सकते हैं कि बिहार में फिर एक बार नितिशे कुमार।

बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम @ Desh Rakshak News
फोटो या आँकड़़े - चुनाव आयोग

राजग - 125 सीट —

भाजपा - 74 , जदयु - 43 , हम - 4 और VIP - 4

महागठबंधन - 110 सीट —

राजद - 75 , काँग्रेस - 19 , मामले - 12 , भाकपा - 3 , माकपा - 2

AIMIM गठबंधन - 6 सीट —

AIMIM - 5 , BSP - 1 , RLSP - 0

अन्य - 2 सीट

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में कल देर रात तक स्थिति और अंतिम परिणाम को लेकर उहापोह की स्थिति रही, देर रात को चुनाव आयोग ने अंतिम परिणाम घोषित किया जिससे बिहार में एक बार फिर राजग की सरकार बनना तय हो गया, राजग को 243 विधानसभा सीटों में से 125 सीटों पर जीत हासिल हुई है और बिहार में महााठबंधन को 110 सीटों पर जीत मिली, वहीं असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM ने 5 सीटों पर जीत हासिल की, बिहार विधानसभा चुनाव के सभी सीटों का  जिलावार परिणाम यहाँ क्लिक कर देखें ।


नितिश कुमार की पार्टी जदयु को इस विधानसभा चुनाव में भारी नुकसान का सामना करना पड़ा और उसे सिर्फ 43 सीटों पर जीत मिली, इस तरह से राजग में अब भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन गई है और इसी बात को देखते हुए भाजपा के अन्दर भाजपा का ही मुख्यमंत्री बनाने की माँग उठने लगी है। हालांकि मुख्यमंत्री कौन होगा इस पर अंतिम फैसला भाजपा और जदयु के आपसी बातचीत के बाद ही लिया जा सकता है।

बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम @ Desh Rakshak News
फोटो या आँकड़े - चुनाव आयोग

वहीं असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव में पहली बार अपना झंडा गारते हुए 5 सीटों पर जीत दर्ज की और दिखा दिया कि उन्हे या उनकी पार्टी को हल्के में नही लिया जा सकता है।


बात अगर लोजपा की करें तो लोजपा की तरफ से चिराग पासवान का " बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट " का दांव नही चला और उसे सिर्फ 1 सीट पर जीत मिली वो भी बहुत ही कम अंतर से, लोजपा को भले ही सीट न मिली हो लेकिन लगभग 50 सीटों पर उसने राजग को नुकसान पहुँचाया है और खास कर जदयु को यही वजह है कि जदयु 43 सीटों पर ही सिमट गई।

0 comments:

Post a Comment