Donate Us

Followers

Wednesday, September 2, 2020

डॉ० कफील खान की रिहाई के बाद IPS संजीव भट्ट और आज़म खान की रिहाई की माँग हुई तेज।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गोरखपुर के बी० आर० डी० अस्पताल के पुर्व डॉक्टर कफील खान पर लगाए गए रासुका पर सुनवाई करते हुए ईलाहाबाद उच्य न्यायालय ने डॉ० खान को रासुका से बरी करते हुए उन्हे रिहा करने का आदेश दिया और कल देर रात डॉ० कफील खान को रिहा कर दिया गया।

IPS Sanjiv Bhatt Azam Khan

डॉ० कफील खान की रिहाई से खुश नेताओं और सोशल मिडिया युजर्स ने अब IPS संजीव भट्ट और आज़म खान के समर्थन में उनके रिहाई की माँग तेज कर दी है।

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने डॉ० कफील खान को रिहा किए जाने पर बधाई देते हुए कहा कि हाईकोर्ट द्वारा डॉ० कफील खान की रिहाई का देश प्रदेश के हम सभी इंसाफपसंद लोगों ने सहर्ष स्वागत किया है। उम्मीद है झूठे मुकदमों में फँसाए गए आज़म खान जी को भी शीर्घ ही न्याय मिलेगा। सत्ताधारी का अन्याय व अत्याचार हमेशा नही चलता है।

Samajwadi Party

वहीं काँग्रेस नेता और मशहुर शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने डॉ० कफील खान की रिहाई पर उन सभी लोगों को बधाई दिया जिन्होने किसी ना किसी तरह डॉ० खान की रिहाई के लिए संघर्ष किया था, उन्होने जनता से आह्वान किया कि जिस तरह से आप लोगों ने डॉ० कफील के लिए संघर्ष किया वह काबीले तारीफ है अब दो और राजनैतिक बंदियों IPS संजीव भट्ट और आज़म खान के लिए आवाज़ उठाना है।

गौरतलब है कि IPS संजीव भट्ट को गुजरात दंगा का सच दुनिया के सामने रखने के बाद से ही राजनैतिक प्रतिरोध का सामना करना पर रहा है और पिछले साल उन्हे गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया था। उनकी रिपोर्ट में उन्होने तत्कालिन मुख्यमंत्री और मौजुदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार पर कई आरोप लगाए थें। वहीं आज़म खान को भी राजनैतिक दुश्मनी की वजह से कई तरह के आरोपों में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था और दोनों ही इस वक़्त जेल में हैं।

वहीं जब हमने इस संबंध में युवा नेता और भारतीय इंसान पार्टी के बिहार प्रदेश युवा सचिव रहमत हुसैन से संपर्क किया तो उन्होने न्यायालय पर भरोसा जताते हुए कहा कि जिस तरह से डॉ० कफील खान जी को न्याय मिला है उसी तरह से उम्मीद करता हुँ कि IPS संजीव भट्ट जी को और आज़म खान जी को भी जल्द ही न्याय मिलेगा। वहीं उत्तर प्रदेश सरकार और गुजरात सरकार पर आरोप लगाते हुए रहमत हुसैन ने कहा कि राजनितिक दुर्भावना से दोनो ही सरकारें कानुन का गलत इस्तेमाल कर रही हैं जनता सब देख रही है।

वहीं अगर बात सोशल मिडिया की करें तो सोशल मिडिया पर हजारों लोगों ने हैशटैग #ReleaseSanjivBhatt और #ReleaseAzamKhan के साथ संजीव भट्ट और आज़म खान को रिहा किए जाने की माँग की है।

0 comments:

Post a Comment