Donate Us

Followers

Monday, September 14, 2020

हरियाणा के बाद अब उत्तर प्रदेश के किसानों का आंदोलन, दिल्ली बॉर्डर पर रोका गया।

नरेन्द्र मोदी की केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को लेकर लाए गए 3 अध्यादेश के खिलाफ पुरे देश के किसानों में डर और गुस्से का माहौल है। हरियाणा के किसानों के बाद अब उत्तर प्रदेश के किसानों ने भी इस अध्यादेश के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

Uttar Pradesh's Farmers
(2019 के आंदोलन की फाईल फोटो)

केन्द्र सरकार के लिए गए अध्यादेश के खिलाफ हरियाणा के किसानों ने कुछ दिन पहले विरोध प्रदर्शन किया था और अब युपी के किसानों ने मोर्चा खोल दिया है। उत्तर प्रदेश के नोएडा सेक्टर 69 से किसानों ने अध्यादेश के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के लिए कुच किया लेकिन पुलिस ने उन्हे उत्तर प्रदेश और दिल्ली के बॉर्डर पर ही रोक दिया है।

मोदी सरकार के इस अध्यादेश को राहुल गाँधी ने किसान विरोधी बताते हुए कहा कि किसान ही हैं जो ख़रीद खुदरा में और अपने उत्पाद की बिक्री थोक के भाव करते हैं।

मोदी सरकार के तीन 'काले' अध्यादेश किसान-खेतिहर मज़दूर पर घातक प्रहार हैं ताकि न तो उन्हें MSP व हक़ मिलें और मजबूरी में किसान अपनी ज़मीन पूँजीपतियों को बेच दें।

मोदी जी का एक और किसान-विरोधी षड्यंत्र।

0 comments:

Post a Comment