Donate Us

Followers

Wednesday, September 9, 2020

Koo … भारतीयता का एहसास कराता एक स्वदेशी एप!

Koo प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के Vocal for Local और आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित भारतीय उद्धमी अप्रमेय राधाकृष्णा ( Aprameya Radhakrishna ) और मयंक बिदावट्का ( Mayank Bidawatka ) के Bombinate Technology Pvt. Ltd. द्वारा विकसीत किया गया भारतीय एप है, यह मार्च 2020 में लॉन्च किया गया था।

Koo

Koo एप भारत के लोगों के लिए Tweeter का एक अच्छा विकल्प है, इस समय यह एप चार भारतीय भाषा हिन्दी, कन्नड़, तमिल और तेलगु में उपलब्ध है और जल्द ही यह अन्य भारतीय भाषा मराठी, बँग्ला, गुजराती, मलयालम, उड़िया, पंजाबी, और असमी में भी उपलब्ध होगा। Koo के जारी किए गए ब्यान के अनुसार Koo खास कर उन भारतीय लोगों को ध्यान में रख कर बनाया गया है जो English नही जानते या अपनी मातृभाषा को ही ज़्यादा अहमियत देते हैं।

Koo के सह संस्थापक मयंक बिदावट्का ने देश रक्षक न्युज़ को बताया कि लगभग 1 बीलियन भारतीय अंग्रेजी नही जानते हैं और केवल 10% भारतीय ही अंग्रेजी बोलते हैं उसकी जगह वो भारत की सैकड़ों भाषाओं में से एक भाषा बोलते हैं। हालांकि इंटरनेट पर ज़्यादातर कंटेंट अंग्रेजी में होते हैं लेकिन लोग अपनी मातृभाषा में ही इंटरनेट एक्सेस करना ज़्यादा पसंद करते हैं। उन्होने जानकारी दी की Koo app का प्रयास है कि वो भारतीय  भाषा को जानने वालों की आवाज़ बने और भारतीय अपनी मातृभाषा में ही लोगों से जुड़े और उन तक अपनी मातृभाषा में ही अपने विचार व्यक्त करें।

★★★ Koo App की खास बात

★ यह भारत में Tweeter का एक अच्छा विकल्प है।

★ यह भारतीय भाषा में ही उपलब्ध है।

★ यह आपको अपने एप पर आपकी वेबसाईट, फेसबुक अकाउण्ट, ट्विटर हैंडल, लिंक्डइन अकाउण्ट और YouTube अकाउण्ट शेयर करने की आज़ादी देता है।

★ Koo पर आप अपने पोस्ट को एडिट भी कर सकते हैं जबकि ट्विटर पर यह फैसिलिटी उपलब्ध नही है, हालांकि आप अपने पोस्ट को तब तक ही एडिट कर सकते हैं जब तक उस पर कोई लाईक, कमेंट या रिपोस्ट न हुआ हो।

★ यह जल्द ही अन्य भारतीय भाषाओं में भी उपलब्ध होगा।

★★★ Koo की पहचान और उपलब्धि

★ Koo को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत Social Networking Category में 6940 एप्स के बीच Best App चुना गया है।

★ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में इस एप की चर्चा की है।

0 comments:

Post a Comment